*मुक्त-मुक्तक : 756 - तर-बतर आँखें ?





ढूँढती कुछ इधर-उधर आँखें ॥
लब सिले चीखतीं मगर आँखें ॥
किसको खोया कि एक पत्थर की ,
ख़ुश्क मौसम में तर-बतर आँखें ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति




Comments

Varun Mishra said…
Onlinegatha Offer Best Publishing services become self Publisher with us,we also provide Author Certificate after Published Book

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक