*मुक्त-मुक्तक : 751 - विलोम ?




है स्वाद में वो विष-सम , प्रभविष्णुता में सोम ॥
ऊपर से लौह सदृश , नीचे विशुद्ध मोम ॥
उद्देश्य गुप्त होगा या उच्च अन्यथा ,
अन्तः से बाह्य को क्यों रखता वो यों विलोम ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म