*मुक्त-मुक्तक : 747 - आम होके रोते हैं ॥




नामवर मुफ़्त में बदनाम होके रोते हैं ॥
वो बहुत ख़ास से अब आम होके रोते हैं ॥
बेवजह दिल से हमारे भी खूँ नहीं रिसता ,
इश्क़ के काम में नाकाम होके रोते हैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति



Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी