*मुक्त-मुक्तक : 746 - ग़ज़ालाचश्म




ठूँठ के , चढ़ती लता लेकर सहारे पूछ मत !!
अंध को करती ग़ज़ालाचश्म इशारे पूछ मत !!
जगमगाते दिन में भी दिलचस्प मंज़र कब मिले ?
स्याह रातों में जो देखे हैं नज़ारे पूछ मत !!
(ठूँठ=पत्रविहीन कटा-टूटा पेड़ ,लता=बेल ,अंध =नेत्रहीन ,ग़ज़ालाचश्म=मृगनयनी)
-डॉ. हीरालाल प्रजापति



Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म