*मुक्त-मुक्तक : 739 - अच्छा किया ॥


ठीक है मुझसे मुँह फेर तूने लिया ॥
आगे भी जो भी करना हो करना पिया ॥
चाहे करना बुरा किन्तु ऐसा लगे ,
साथ मेरे सदा तूने अच्छा किया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

varun mishra said…
share your Line with us, in ebook format, or Text
Free ebook publisher india

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म