*मुक्त-मुक्तक : 733 - उसका अरमान था.....


उसका बेशक़ मैं कभी भी नहीं हबीब रहा ॥
उसके दिल के नहीं अंदर मगर क़रीब रहा ॥
उसका अरमान था होता अमीर कातिब मैं ,
मेरी तक़दीर मैं तासिन ग़रीब अदीब रहा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी