*मुक्त-मुक्तक : 730 - केले के छिलके:....


केले के छिलके को न फैली काई बना दो ॥
पतली दरार को न चौड़ी खाई बना दो ॥
संदेह के उत्तुंग पर्वतों को यदि हो शक्य ,
विश्वास से अपने मिटा या राई बना दो ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी