*मुक्त-मुक्तक : 727 - मुझपे पत्थर चला ॥




सबसे छुपकर न सबसे उजागर चला ॥
तू न थपकी न चाँटे सा कसकर चला 
काँच का टिमटिमाता हुआ बल्ब हूँ ,
मत किसी ढंग से मुझपे पत्थर चला ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी