*मुक्त-मुक्तक : 718 - बेसबब ही.........


निगाहों में लिए
फिरते हैं उसकी
शक़्ल यारों ॥
नहीं करती हमारी
काम कुछ भी
अक़्ल यारों ॥
किया जिस दिन से
उसने बेसबब ही
हमको अपने -
पकड़के दिल में
कुछ दिन रखके
फिर बेदख़्ल यारों ॥
- डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म