*मुक्त-मुक्तक : 696 - मौसम बर्फ़बारी का.......



बड़े ही नाज़ – ओ – अंदाज़ से बेहद क़रीने से ॥
टिका रक्खा था उसने अपने सर को मेरे सीने से ॥
यक़ीनन वादियों में था वो मौसम बर्फ़बारी का ,
मगर उस वक़्त लथपथ हो रहा था मैं पसीने से ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Kailash Sharma said…
बहुत सुंदर..
धन्यवाद ! Kailash Sharma जी !

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी