*मुक्तक-मुक्तक : 693 - कौन विहग दूँ भेंट तुझे ?

कौन विहग दूँ भेंट तुझे ?
जब मन ख़याल लाया ॥
बुलबुल ,शुक ,सारिका ,छोड़
तब मैं मराल लाया ॥
पुष्प समर्पित करने तुझको
मध्य सरोवर से ,
नीलकमल ,श्वेत उत्पल के सँग
पद्म लाल लाया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा