*मुक्त-मुक्तक : 689 - तक्लीफ़ पे तक्लीफ़.........

   

बदला न जानूँ किसका
              
चुकाते रहे हैं वो ?
                     
हँसने के वक़्त पर भी
                            
 रुलाते रहे हैं वो ॥
                                      
तक्लीफ़ पे तक्लीफ़
                                              
 बहुत दर्द दर्द पे ,
                                                       
देकर के मुझको लुत्फ़
                                                                
 उठाते रहे हैं वो ॥

 -डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

कहानी : एक नास्तिक की तीर्थ यात्रा