*मुक्त-मुक्तक : 678 - क्यों लगे है हूँ पीछे ?


क्यों लगे है हूँ पीछे होके सब ही से आगे ?
किस तरह के ये मेरे सोये भाग हैं जागे ?
जब से आई है कोमल सेज मेरी मुट्ठी में ,
नींद आँखों से मेरी छूट-छूट कर भागे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक