मुक्तक : चुप्पी-ख़ामोशी-सन्नाटे............


क्या ये चुप्पी-ख़ामोशी-सन्नाटे 
बात में बदलेंगे ?
क्या ये मौत-क़यामत आख़िर 
जीस्त-हयात में बदलेंगे ?
क्या मेरा फ़ौलाद-सब्र भी 
बच पाएगा गलने से ?
क्या वह दिन आएगा जिस दिन 
ये दिन रात में बदलेंगे ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक