*मुक्त-मुक्तक : 670 - झूठे राजा हरिश्चन्द्र


लुंज केंचुए मेनकाओं को नृत्य सिखाते हैं ॥
झूठे राजा हरिश्चन्द्र को सत्य सिखाते हैं ॥
सूरदास इस नगर के वितरित करते-फिरते दृग ,
सदगृहस्थ को अविवाहित दांपत्य सिखाते हैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक