*मुक्त-मुक्तक : 661 - बेकार है , ख़राब है


बेकार है , ख़राब है , बहुत ग़लीज़ है ॥
उसके लिए है सस्ती मुफ़्त जैसी चीज़ है ॥
बेशक़ नहीं हो मेरी ख़ुशगवार ज़िंदगी ,
मुझको मगर बहुत बहुत बहुत अज़ीज़ है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे