*मुक्त-मुक्तक : 660 - मैं न जानूँ क़ायदा क्या है


मैं न जानूँ क़ायदा क्या है ,अदब क्या ?
सीखकर भी फ़ायदा है और अब क्या ?
पाँव दोनों क़ब्र में लटके न जानूँ ,
हादसा हो जाए मेरे साथ कब क्या ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक