Wednesday, January 28, 2015

गीत (19) - सुख के कारागार से कर दो मुक्त मुझे

हाँ अपने अपराध मुझे स्वीकार्य सभी ,
ऐसा दण्ड दो हो पापों का क्षय जिससे ॥
सुख के कारागार से कर दो मुक्त मुझे ।
लौह-श्रंखला भार से कर दो युक्त मुझे ।
नख उखाड़ो, कीलें ठोंको, दागो, पीटो
और हँसो भीषण पीड़ा दे उक्त मुझे ।
ताकि करूँ ना फिर से ऐसा कार्य कभी ,
हो स्वतन्त्रता छिन जाने का भय जिससे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

No comments:

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...