नवगीत (14) : व्यर्थ रहूँ उससे आकर्षित ॥


व्यर्थ रहूँ उससे आकर्षित ॥
जिसको पाना सूर्य पे जाना ।
भर बारिश में पतंग उड़ाना ।
जिसने मुझको स्वयं रखा है –
पाने से पहले आवर्जित ॥
क्यों सुंदर वह वज्र हृदय की ?
देखो लीला भाग्य समय की ।
जो मुझसे निर्लिप्त पूर्णतः –
मैं उसपे मन प्राण से अर्पित ॥
धन कुबेर वो रंक बड़ा मैं ।
मृदु उबटन वो पंक कड़ा मैं ।
मेल न मेरा उसका फिर भी –
मैं उससे मिलने उत्कंठित ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Kavita Rawat said…
सुन्दर ....
आपको नए साल 2015 की बहुत बहुत हार्दिक मंगलकामनाएं!
सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (03-01-2015) को "नया साल कुछ नये सवाल" (चर्चा-1847) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
नव वर्ष-2015 आपके जीवन में
ढेर सारी खुशियों के लेकर आये
इसी कामना के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक