पूर्ण सहर्ष करें मन से तेरा स्वागत नववर्ष ॥


पाताली-घनघोर पतन या गगनचुंबी उत्कर्ष
चाहे अपने सँग तू लाये शान्ति या कि संघर्ष
किन्तु सभी उत्थानाशान्वित-सुखाभिलाषी हम ,
पूर्ण सहर्ष करें मन से तेरा स्वागत नववर्ष

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (02-01-2015) को "ईस्वीय सन् 2015 की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा-1846) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
नव वर्ष-2015 आपके जीवन में
ढेर सारी खुशियों के लेकर आये
इसी कामना के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे