नवगीत (12) : उनको मैं असफल लगता हूँ ॥


उनको मैं असफल लगता हूँ ॥
गमले से जो खेत हुआ मैं ।
उनके ही तो हेत हुआ मैं ।
हूँ संवेदनशील औ भावुक –
पर उनको इक कल लगता हूँ ॥
जो बोले वो मैं कर बैठा ।
मरु में मीठा जल भर बैठा ।
व्योम निरंतर चूमूँ फिर भी –
उनको पृथ्वी तल लगता हूँ ॥
उनकी ही ले सीख हुआ हूँ ।
इमली से यदि ईख हुआ हूँ ।
मदिरा से कहीं अधिक मदिर पर
उनको सादा जल लगता हूँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म