नवगीत ( 11 ) : एक सिंहिनी हो चुकी जो भेड़ थी ॥


एक सिंहिनी हो चुकी जो भेड़ थी ॥
खुरदुरेपन में भी सच नवनीत थी ।
चीख में भी पहले मृदु संगीत थी ।
एक पाटल पुष्प की वह पंखुड़ी –
दूब कोमल अब कंटीला पेड़ थी ॥
तमतमा बैठी अचानक क्या हुआ ?
मैंने उसको बस लड़कपन सा छुआ !
कह गई अक्षम्य वह अपराध था –
जो ठिठोली, इक हँसी, टुक छेड़ थी ॥
मात्र जन थी अब नगर अध्यक्ष वो ।
वर्षों के उपरांत हुई प्रत्यक्ष वो ।
जब वो मिलकर चल पड़ी तो ये लगा –
भेंट थी वो या कोई मुटभेड़ थी ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (28-12-2014) को *सूरज दादा कहाँ गए तुम* (चर्चा अंक-1841) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
Kavita Rawat said…
सिहिनी की दहाड़ न हो तो फिर कौन सुनेगा उसकी ...बहुत खूब!
Onkar said…
सुन्दर

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी