*मुक्त-मुक्तक : 645 - सब्ज़ कब सुर्ख़..........


सब्ज़ कब सुर्ख़ कब ? ये ज़र्द-ज़र्द लिखती है ॥
औरत-औरत ही लेखती न मर्द लिखती है ॥
चाहता हूँ मैं लफ़्ज़-लफ़्ज़ में ख़ुशी लिक्खूँ ,
पर क़लम मेरी सिर्फ़ दर्द-दर्द लिखती है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी