*मुक्त-मुक्तक : 638 - गर्मी में बरसात.......


गर्मी में बरसात हो जाये ॥
मँगते की ख़ैरात हो जाये ॥
वीराँ में तुझसे जो मेरी ,
कुछ अंदर की बात हो जाये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी