*मुक्त-मुक्तक : 636 - हाथ उठाकर..........


हाथ उठाकर आस्माँ से हम दुआ ॥
रात-दिन करते रहे तब ये हुआ ॥
कल तलक जिसके लिए थे हम नजिस ,
आज उसी ने हमको होठों से छुआ ॥
( नजिस = अछूत, अस्पृश्य , अपवित्र )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे