*मुक्त-मुक्तक : 627 - हो जाए न सुन................


हो जाए न सुन चेहरा ज़र्द सुर्ख़-सब्ज़ भी ॥
थम जाए चलते-चलते यकायक न नब्ज़ भी ॥
मेरे तो सामने न इसका नाम लीजिए ,
मुझको है खौफ़नाक क़यामत का लफ़्ज़ भी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक