*मुक्त-मुक्तक : 609 - इक ज़रा लुत्फ़ो-मज़ा...........


इक ज़रा लुत्फ़ो-मज़ा 
जब हों न तारी ॥
हर तरफ़ तकलीफ़ो-ग़म हों 
भारी-भारी ॥
और यही आलम हो रहना 
उम्र भर तो ,
क्यों करूँ मैं ज़िंदगी की 
पासदारी ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक