मुक्त-मुक्तक : 572 - पर्वत होकर चलना........

पर्वत होकर चलना चाहूँ ॥
पानी बनकर जलना चाहूँ ॥
है अजीब , नामुमकिन लेकिन ,
बिन पिघले ही ढलना चाहूँ ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी