135 : मुक्त-ग़ज़ल - यूँ ही सा देखने में है..............


यूँ ही सा देखने में है वो छोटा सा बड़ा इंसाँ ॥
सभी को बैठने कहता है ख़ुद रहकर खड़ा इंसाँ ॥
जहाँ सब लोग उखड़ जाते हैं पत्ते-डाल से , जड़ से ,
वो टस से मस नहीं होता पहाड़ों सा अड़ा इंसाँ ॥
वो अंदर से है मक्खन से मुलायम आज़मा लेना ,
यों दिखता है वो ऊपर नारियल जैसा कड़ा इंसाँ ॥
नहीं मिलता कहीं दो घूँट जब पानी मरुस्थल में ,
वहाँ ले आ पहुँचता है वो पानी का घड़ा इंसाँ ॥
जो सोता बेचकर घोड़े वो उठ जाता है बाँगों से ,
नहीं उठता है आँखें खोलकर लेटा , पड़ा इंसाँ ॥
यों जुड़ता है किसी से जैसे उसका ही वो टुकड़ा हो ,
क़रीने से अँगूठी में नगीने सा जड़ा इंसाँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (14-06-2014) को "इंतज़ार का ज़ायका" (चर्चा मंच-1643) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
Onkar said…
बहुत सुंदर
सदा said…
अनुपम .....
Vaanbhatt said…
सुन्दर रचना...

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी