*मुक्त-मुक्तक : 535 - मुंबई , कलकत्ता , देहरादून............



मुंबई , कलकत्ता 
देहरादून में आँसू ॥
बारिशों में सर्दियों 
मई-जून में आँसू ॥
तेरी यादों ने मुझे 
कुछ यूँ रुलाया है ,
मिल गये मेरे पसीने 
ख़ून में आँसू ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक