*मुक्त-मुक्तक : 534 - लिपटे-उलझे बल ऊँचे................



लिपटे-उलझे बल ऊँचे माथ छोड़ चल देती ॥ 
कसके पकड़ा झटक के हाथ छोड़ चल देती ॥ 
ज़िंदगी तुझसा और बेवफ़ा भी होगा क्या ?
जब हो मर्ज़ी तेरी तू साथ छोड़ चल देती ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म