*मुक्त-मुक्तक : 521 - इक नज़र गौर से देखो..........


इक नज़र गौर से देखो जनाब की सूरत II
दिल फटीचर है मगर रुख नवाब की सूरत II
कैक्टस है वो कड़क ठोस ख़ुशनसीबी से ,
पा गया खुशनुमा नरम गुलाब की सूरत II

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म