129 : मुक्त-ग़ज़ल - यूँ दर्द से छटपटा..............

यूँ दर्द से छटपटा रहा हूँ I
मैं ज़िंदगानी घटा रहा हूँ I
चखा ही मैनें कभी खाया ,
मगर कहें सब चटा रहा हूँ I
मैं सेब होकर भी उस नज़र में ,
हमेशा कददू-भटा रहा हूँ I
सब हो गये बाल-बच्चों वाले ,
मैं अब भी लड़की पटा रहा हूँ I
वो भोर के सुनहरे उजाले ,
मैं साँझ का झुटपुटा रहा हूँ I
वो बनके वेणी सदा रहे हैं ,
मैं साधुओं की जटा रहा हूँ I
सटा सका जब उनको सीने ,
मैं दिल को उनसे हटा रहा हूँ I

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Ghanshyam kumar said…
वाह... बहुत सुन्दर...
धन्यवाद ! Ghanshyam kumar जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक