*मुक्त-मुक्तक : 499 - गिरा पड़ा ज़मीन से............


गिरा पड़ा ज़मीन से उठा उठाकर दे ॥
ख़रीद कर दे छीन झपट या चुराकर दे ॥
करे है दावा अगर तू ख़ुदा का तो मुझको ,
कहीं से भी किसी तरह वो चीज़ लाकर दे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म