*मुक्त-मुक्तक : 498 - हाथियों को बन्दरों..............


हाथियों को बन्दरों 
जैसा उछलने का लगा ॥
सेब खाती हिरनियों को 
गोश्त चखने का लगा ॥
जिसको देखो दायरे से 
अपने बाहर हो रहा ,
बिलबिलाते केंचुओं को 
शौक़ डसने का लगा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म