*मुक्त-मुक्तक : 496 - सिदूर माँग का न..............


सिदूर माँग का न पग की 
धूल हम हुए ॥
जूड़े का भी नहीं न रह का 
फूल हम हुए ॥
उसने तो उसको चाहने की 
छूट भी न दी ,
दिल रख के भी यों इश्क़ के 
फिज़ूल हम हुए ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म