*मुक्त-मुक्तक : 493 - हँसने की आर्ज़ू में............


हँसने की आर्ज़ू में ज़ार रो के मरे  है ॥
खा-खा के धोखा खामियाजा ख़ास भरे है ॥
अहमक़ नहीं वो नादाँ नहीं तो है और क्या ?
इस दौर में उम्मीदे वफ़ा जो भी करे है ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म