*मुक्त-मुक्तक : 473 - अहसास दे शरबत..................


अहसास दे शरबत जो पुरानी शराब सा ॥
सच सामने हो फिर भी हो महसूस ख़्वाब सा ॥
फ़ौरन निगाह का इलाज कीजिए जनाब ,
अच्छा नहीं चराग़ दिखना आफ़ताब सा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म