*मुक्त-मुक्तक : 470 - जी करता है अपने सर से.............


जी करता है अपने सर से पटक गिराऊँ मैं !
अपने हल्केपन का कब तक बोझ उठाऊँ मैं ?
ख़ूब रहा गुमनाम कभी बदनाम भी बहुत हुआ ,
अब सोचूँ कुछ यादगार कर नाम कमाऊँ मैं ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म