*मुक्त-मुक्तक : 455 - कैसी-कैसी मीठी-मीठी...............


कैसी-कैसी मीठी-मीठी प्यारी-प्यारी करती थी ॥
क्या दिन-दिन क्या रात-रात भर ढेरों-सारी करती थी ॥
मेरी तरफ़ मुखातिब होना तक न गवारा आज उसे ,
जो मुझसे जज़्बात की बातें भारी-भारी करती थी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म