*मुक्त-मुक्तक : 449 - वो ज़माने गये जो थे.................


वो ज़माने गये जो थे किसी ज़माने में ॥
लोग महबूब को थकते न थे मनाने में ॥
सख़्त जोखिम भरी है आज रूठने की अदा ,
यार लग जाएँ नये यार झट बनाने में ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

बिलकुल सही कहा आपने वो ज़माने गए
धन्यवाद ! Lekhika 'Pari M Shlok' जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे