*मुक्त-मुक्तक : 443 - दो घूँट में ही वो...............


दो घूँट में ही वो नशे से रह भटक गये ॥
दो मार के डग बीच में अटक सटक गये ॥
मंजिल पे भी हमें मिली न दौड़ से फुर्सत ,
टाले टले न होश ख़ुम के ख़ुम गटक गये ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म