*मुक्त-मुक्तक : 434 - दिल से निकाल दूँगा...................


दिल से निकाल दूँगा दर्द-ओ-रंज अगर तमाम ,
कैसे करूँगा ग़म की शायरी का ख़ुश हो काम ?
अश्क़ों को ही तो मैं बदलता हूँ अशआर में ,
रखता हूँ जितनी आँख ख़ुश्क उतने तर क़लाम ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
गये साल को है प्रणाम!
है नये साल का अभिनन्दन।।
लाया हूँ स्वागत करने को
थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।।
है नये साल का अभिनन्दन।।...
--
नवल वर्ष 2014 की हार्दिक शुभकामनाएँ।
धन्यवाद ! मयंक जी ।

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक