बुद्धि विधाता............



बुद्धि विधाता बाह्य जगत को इतनी बुद्धि तो दो ॥ 
तन प्रक्षालन करे न करे आत्म शुद्धि तो दो ॥ 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे