कर्म दिवस-निशि और न कोई......





कर्म दिवस-निशि और न कोई दूजा करते हैं ॥
तेरी सुंदरता की प्रतिपल  पूजा करते हैं ॥
दृग मूँदे मन-चक्षु फाड़ कुछ स्वप्न-तले तेरे ,
धुर सन्यासी भी दर्शन का भूजा करते हैं ॥
(दृग=आँख ,मन-चक्षु=मन की आँख ,भूजा=भोग)
-डॉ. हीरालाल प्रजापति






Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म