सिर्फ़ इक बार अपनी..............


सिर्फ़ इक बार अपनी 
शक्ल वो दिखा जाता ॥  

तरसती - ढूंढती 
आँखों को चैन आ जाता ॥   
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक