*मुक्त-मुक्तक : 430 - सबपे पहले ही से................


सबपे पहले ही से बोझे थे बेशुमार यहाँ ॥
अश्क़ टपकाने लगते सब थे बेक़रार यहाँ ॥
सोचते थे कि होता अपना भी इक दिल ख़ुशकुन
लेकिन ऐसा न मिला हमको ग़मगुसार यहाँ ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म