*मुक्त-मुक्तक : 398 - होने को ख़ुश या रोने को.....................


होने को ख़ुश या रोने को उदास लोग बाग ॥
क्या क्या लगाते रहते हैं क़ियास लोग बाग ?
अंजाम कुछ भी अपने हाथ में नहीं मगर ,
तकते हैं सब लकीरें आम-ओ-ख़ास लोग बाग ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (09-12-2013) को "हार और जीत के माइने" (चर्चा मंच : अंक-1456) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
वाह... उम्दा... भावपूर्ण...बहुत बहुत बधाई...
धन्यवाद ! Prasanna Badan Chaturvedi जी !

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे