*मुक्त-मुक्तक : 395 - जब तक न पास में था.................


जब तक न पास में था 
काम-धाम रोज़गार ॥
बैठे थे धर के हाथ पे हम 
हाथ थे बेकार ॥
सच कह रहे हो तुम 
क़सम ख़ुदा की बेतरह ,
करते थे सुबह-शाम-
रात-दिन हम उनसे प्यार ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Anonymous said…
I simply couldn't leave your site prior to suggesting that I really loved the usual
information a person supply to your guests? Is going to
be again steadily in order to check out new posts

Review my web blog: weight loss diet ()

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म