*मुक्त-मुक्तक : 384 - ताल ,कूप ,नदिया...............


ताल ,कूप ,नदिया या नल दे ॥
पीने को तत्काल ही जल दे ॥
है असह्य अब प्यास , अन्यथा
कालकूट सा तरल-गरल दे ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे